nashaband

स्वास्थ्य पर दारू के नकारात्मक प्रभाव ?

दारू या मदिरा या शराब पीना एक ऐसा व्यसन है, जो केवल दारू पीनेवाले व्यक्ती को ही नहीं, पर उस के कुटुंब को भी धीरे धीरे खोकला कर देता है. दारू पीने के पश्चात मस्तिष्क में एंडोर्फिन नामक रसायन की मात्रा बढती है. यह रसायन मस्तिष्क को सब कुछ यथायोग्य चल रहा है, अच्छा है ऐसी अनुभूती देता है. इस अनुभूती से जुडी हुई है मस्तिष्क की एक विशेष प्रणाली जिसे ब्रेन रिवार्ड सिस्टिम के नाम से जाना जाता है. यह प्रणाली, मस्तिष्क को उन अनुभवों के कारणों से अधीन…

Read More
nashaband

स्वास्थ्य पर तम्बाकू के नकारात्मक प्रभाव

तंबाकू एक मंदगती विष के समान है. किसी भी रूप में तम्बाकू के अत्यधिक सेवन से मानव स्वास्थ्य पर अतिप्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. कॅन्सरका कारण बननेवाले प्रमुख दोषियों में से एक हैतम्बाकू का नियमित रूप सेवन. तम्बाकू में लगभग सत्तर रसायन होते हैं, जो कॅन्सर का कारण बन सकते हैं. लगभग 50% लोग जो नियमित रूप से तम्बाकू का सेवन करते हैं, उन में स्वास्थ्य से संबंधित अनेक जटिल समस्यांए निर्माण हो जाती है, जिस के परिणामस्वरूप मृत्यु भी हो सकती है. तम्बाकू के उपयोग से होने वाले रोग सामान्यत:…

Read More
nashaband

विज्ञान की दृष्टी से व्यसनाधीनता

सामान्यत:लोग यह नहीं जानते कि दूसरे लोग नशे के आदी क्यों हो जाते हैं. यह एक व्यापक अयोग्य धारणा है कि जो लोग व्यसनाधीन हो जाते है, उन में नैतिकता का अभाव या त्रुटी रहती है या उनमें कम इच्छाशक्ति होती है.वास्तव में, मादक पदार्थों का व्यसन, एक बहुत ही जटिल व्याधी है, एवम केवल नीयत भली होने से या दृढ इच्छाशक्तीहोने से व्यसन छुटने का प्रतिशत लगभग शून्य है. जो लोग, मादक पदार्थों का व्यसन छोडना चाहते हैं,उन्हें अपने स्वयं के मस्तिष्क से लड़ना पड़ता है. यह लडाई केवल…

Read More
nashaband

मादक पदार्थों का व्यसन : जीवन को ध्वस्त करनेका मार्ग

अधिकांश मादक पदार्थों की काव्यसनजडने का आरंभ,सामान्यत: समूहोंमें, समारोह मेंप्रयोगात्मक उपयोग के साथ होता है.अधिकतर स्थितियों में, जब प्रथम उपयोग का अनुभव, किसी भी प्रकार का निश्चित लाभ दिखाता है, तो कम से कम कुछ व्यक्तियों के लिए तो यह संभावना बनती ही है कि,वो उस पदार्थ का उपयोग,पुनश्च करे.धीरे-धीरे उपयोग की आवृत्ति में वृद्धि होती रहती है,  तथा धीरे-धीरे  वो वृद्धी, उस पदार्थ पे निर्भरता की ओर ले जाती है. अंततः यही निर्भरता व्यसन का अंतिम रूप लेती है.   कोई व्यक्ति कितनी गति से इस मार्ग की क्रमणा…

Read More