डायबेनो

2,690.00 जी.एस.टी. सहित

आयुर्वेदिक फार्माकोपिया कमिटी (एपीसी) ने प्रमाणित किया हुआ ‘डायबेनो’, अमृता, करला, गुडमार, जामुन आणि शिलाजीत आदि लाभदायक तथा संतुलित औषधीयोंका एक मिश्रण है.

डायबेनो, मधुमेह के सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए, 9 प्रमुख दीर्घकालिक जटिलताओंसे, जैसे कि रेटिनोपॅथी, न्यूरोपॅथी, नेफ्रोपॅथी, कार्डियोवॅस्कुलर जटिलताएँ, उच्च रक्तदाब, अल्जाइमर-डिमेंशिया, दंतरोग, न भरनेवाले घाव, अल्सर, त्वचा या ऊतक संक्रमण से निपटने में शरीर को सहाय्यकारी होता है.

Description

डायबेनो एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधी है, जो रक्त शर्करा को बनाए रखने में, नियंत्रित करने में सहाय्यकारी होती है. अनेक उपयुक्त जड़ीबूटियों के संयोजनसे बनी, डायबेनो गोलियों का परीक्षण मनुष्यों पर किया गया है और इसका कोई भी दुष्प्रभाव नहीं दिखा है. मधुमेह के कारण संक्रमित होनेवाले अन्य अंग जैसे की गुर्दे, हृदय, मस्तिष्क, आँख, त्वचा आदि से संबंधित बीमारीयाँ तथा संबंधित दुसरे लक्षण जैसे की अत्याधिक भूख, प्यास, थकान और अतिरिक्त पेशाब आदि में सुधार करने के लिए, यह दवा चिकित्सकीय स्वरूप से सिद्ध हो चुकी है.

मुख्यरुप से इस में आँवला, करेला, गुड़मार, जामुन, शुद्ध शिलाजित है, जो रक्तशर्करा के स्तर को, मीठा खाने की इच्छा को एवम छ्द्म-क्षुधा को नियंत्रित रखने में सहाय्यभूत होता है, तथा शरीर में इन्शुलिन की निर्मिती बढाता है.

विशेष विवरण

डायबेनो में इनका समावेश किया गया है

Amra

आमला

इन्शुलिन की निर्मिती बढाने के लिये उपयुक्त

Karela

करेला

इन्शुलिन जैसा ही काम करता है तथा इन्शुलिन की निर्मिती बढाने के लिये उपयुक्त.

Gudmar

ग़ुडमार

मीठा खाने की इच्छा को एवम रक्तशर्करा के स्तर को नियंत्रित रखता है.

Jamun

जामुन

भोजन के पश्चात, रक्तशर्करा के स्तर को बढने से रोखता है.

Carrot seed oil

Shilajit

बीटा कोशियोंका होनेवाली हानि को रोखता है तथा इन्शुलिन की निर्मिती बढाता है.

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “डायबेनो”